Saturday, January 28, 2023
spot_img
Homeराष्ट्रीयतमिलनाडु में एकबार फिर कहर बरपा सकती है बारिश, ‘मैंडूस’ में बदल...

तमिलनाडु में एकबार फिर कहर बरपा सकती है बारिश, ‘मैंडूस’ में बदल सकता है चक्रवाती तूफान

चेन्नई:तमिलनाडु में एक बार फिर बारिश कहर बरपाने वाली है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग जो तमिलनाडु में क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र (RMC) के रूप में जाना जाता है ने इस सप्ताह तमिलनाडु के 13 जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग ने दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर बन रहे लो प्रेशर के बाद भारी बारिश की भविष्यवाणी की है. वहीं कम दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान ‘मैंडूस’ में बदल सकता है. साथ ही आईएमडी ने कहा कि इस दौरान भारी बारिश के साथ तेज हवाएं भी चलेंगी.

IMD ने तमिलनाडु के विल्लुपुरम, चेंगलपट्टू, कुड्डालोर, कांचीपुरम, तिरुवल्लूर, अरियालुर, पेराम्बलुर, चेन्नई, कल्लाकुरिची, माइलादुथुराई, तंजावुर, तिरुवरुर और नागापट्टिनम जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है. साल 2016 से हर दिसंबर में तमिलनाडु में बाढ़ जैसी स्थिति की सूचना मिली है. राज्य में बारिश के रेड अलर्ट के बीच तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की छह टीमों को तैनात किया गया है. टीमों को कथित तौर पर नागापट्टिनम, तिरुवरुर, कुड्डालोर, माइलादुथुराई, तंजावुर और चेन्नई में तैनात किया गया है.

NDRF के अधिकारियों के अनुसार यह कदम तमिलनाडु सरकार के आपदा प्रबंधन निदेशक के निर्देश के बाद उठाया गया है. जिन छह टीमों को तैनात किया गया है, वे एनडीआरएफ अरोकोनोम से हैं. साथ ही IMD ने पुडुचेरी और कराईकल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश की भी भविष्यवाणी की है. राज्य ने नवंबर के महीने में बारिश की कमी की सूचना दी थी और इसके दिसंबर में बढ़ने की उम्मीद थी. मौसम विभाग ने पुडुचेरी में 6 दिसंबर को हल्की से मध्यम बारिश की भविष्यवाणी की थी. वहीं IMD ने 7-9 दिसंबर तक भारी वर्षा की भविष्यवाणी की है.

न्यूज एजेंसी IANS के अनुसार बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक के बाद बदलते मौसम के कारण दिसंबर के महीने में भारी बारिश की संभावना है. आईएमडी ने यह भी भविष्यवाणी की है कि एक कम दबाव प्रणाली के कारण चेन्नई सहित उत्तर तटीय तमिलनाडु में भारी बारिश और तेज हवाएं चल सकती हैं. क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र, चेन्नई के निदेशक पी सेंथमारई कन्नन के अनुसार कम दबाव का क्षेत्र बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व और दक्षिण अंडमान सागर से सटे होने की संभावना है. यह 7 दिसंबर तक एक दबाव में बदल सकता है और इसके पश्चिम उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने और उत्तर तमिलनाडु और पुडुचेरी क्षेत्रों तक पहुंचने की संभावना है.

RELATED ARTICLES

ताजा खबरें