Thursday, February 9, 2023
spot_img
Homeउत्तराखंडकैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की बढ़ाई सुरक्षा व्यवस्था, ऐसे रची गई थी...

कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की बढ़ाई सुरक्षा व्यवस्था, ऐसे रची गई थी हत्या की साजिश

डीआईजी कुमाऊं ने कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को बैठक में कहा कि सुरक्षा में चूक बिल्कुल नही होनी चाहिए। बीते दिनों कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या की साजिश का पर्दाफाश हुआ था, जिसके बाद उनकी सुरक्षा को चर्चा तेज हो गई थी। सरकार ने उन्हें तत्काल वाई श्रेणी की सुरक्षा के साथ उनके घर पर सुरक्षा बढ़ा दी थी।

इसके तहत उनके घर पर गार्ड बढ़ाने के साथ-साथ भ्रमण स्थल पर भी सुरक्षा कर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है। साथ ही कैबिनेट मंत्री से मिलने के लिए आने-जाने वालों के पास आईकार्ड होना जरूरी किया गया है।

कैबिनेट मंत्री की हत्या की ऐसे रची जा रही थी साजिश

कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या करने की साजिश हल्द्वानी जेल में एक कैदी द्वारा रची जा रही थी। जहां मुख्य आरोपी साजिशकर्ता हीरा सिंह बंद था। वहीं उसकी पहचान सतनाम सिंह से हुई। उसी ने जेल से बाहर अपने दो साथियों के बारे में हीरा सिंह को बताया। हीरा सिंह ने सतनाम सिंह के बताये दोनों व्यक्तियों संग मिलकर ताना-बाना बुना।
हीरा सिंह के कहने पर यूपी के शूटरों से घटना को अंजाम देने की साजिश तांत्रिक मो. अजीज उर्फ गुड्डू रच रहा था। विधायक प्रतिनिधि उमाशंकर दुबे की तहरीर के अनुसार सतनाम सिंह ने जेल में हीरा सिंह को बताया था कि उसका दोस्त मो. अजीज उर्फ गुड्डू निवासी किच्छा का बड़ा अपराधी है। उसके सम्बन्ध उत्तर प्रदेश के शूटरों के साथ हैं।

उमाशंकर दुबे के अनुसार कैबिनेट मंत्री सितारगंज आये तो क्षेत्र भ्रमण के दौरान कुछ स्थानों पर उसे देखा गया था। सतनाम सिंह ने पैरोल पर आने के बाद हीरा सिंह से सम्पर्क साधा। दुबे के अनुसार हीरा सिंह ने सतनाम सिंह व उसके दोस्त हरभजन सिंह, मो. अजीज उर्फ गुड्डू निवासी किच्छा से सम्पर्क साधकर षडयन्त्र को अन्तिम रूप देने की योजना बनाई।

उन्होंने आशंका जताई कि इनके साथ अन्य लोग भी शामिल हो सकते हैं। साजिश के पीछे कोई और तो नहीं!: साजिश में मुख्य आरोपी के पीछे कोई और तो नहीं है, इस पर भी जांच चल रही है। बताया जा रहा है कि किच्छा के एक तांत्रिक ने कुछ माह पहले मुख्य आरोपी से रकम ली थी। उसी ने मंत्री को वश में करने व वश में नहीं होने पर रास्ते से हटा देने की जिम्मेदारी ली थी। गुड्डू इसके लिए और रकम की डिमांड कर रहा था।

RELATED ARTICLES

ताजा खबरें