Saturday, January 28, 2023
spot_img
Homeउत्तराखंडबरसात के मौसम में डेंगू मलेरिया बीमारियों से निपटने के लिए लोगों...

बरसात के मौसम में डेंगू मलेरिया बीमारियों से निपटने के लिए लोगों का स्वयं जागरूक होना बेहद जरुरी :- जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल

हल्द्वानी । जिलाधिकारी धीराज सिह गर्ब्याल ने कहा कि बरसात के मौसम में डेंगू व मलेरिया जैसी बीमारियों से निपटने के लिए लोगों का स्वयं जागरूक होना बेहद जरूरी है। इसके लिए सभी अपने घर से पहल करें, ताकि हम सभी डेंगू व मलेरिया से बच सकें।
जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को आदेशित करते हुये कहा कि समस्त राजकीय एवं निजी चिकित्सालयों मे साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए साथ ही डेंगू प्रभावित कोई भी डेंगू संक्रमित मरीज पाया जाता है तो उस क्षेत्र की प्राथमिकता के आधार पर एक्टिव सर्विलांस के साथ ही मरीज का उपचार करें तथा मरीज की तत्काल सूचना प्राप्त कर मरीज का पर्यवेक्षण सुनिश्चित किया जाए। उन्होने कहा कि चिकित्सालयों मे डेंगू एवं वायरल के उपचार सम्बन्धी पर्याप्त औषधियाँ, मलेरिया अधिकारी विशेषज्ञ डाक्टरों के माध्यम से प्रतिदिन संवदेनशील स्थानों, चिकित्सालयों का निरीक्षण करवाते हुए मानीटरिंग सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के प्रति जागरूक एवं बीमारियों से बचाव के लिए ‘‘क्या करें, क्या न करें’’ सम्बन्धी बिन्दु तैयार करते हुये व्यापक-प्रचार सुनिश्चित किया जाए ताकि जनता जागरूक हो सके।
जिलाधिकारी ने नगर निगम, नगर पालिका एवं नगर पंचायतों के अधिकारियों से कहा है कि वे अपने-अपने क्षेत्रों का निरीक्षण कर गन्दगी वाले स्थानों की सफाई करना सुनिश्चित करेंगे साथ ही कीटनाशक औषधियों का छिड़काव फोगिंग मशीन आदि के माध्यम से करवाना सुनिश्चित करेें। उन्होने कहा गली, मौहल्ला, कॉलोनियों में घरों का कूड़ा एकत्र करने वाले स्थानों की सफाई नियमित रूप से हो तथा आन्तरिक मार्गों को गडडा मुक्त किया जाए ताकि डेंगू का लार्वा पनप ना सके।
श्री गर्ब्याल ने अपर मुख्य अधिकारी को आदेशित करते हुये कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों का निरीक्षण कर गन्दगी वाले क्षेत्रों की सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कर स्वच्छता समितियों के माध्यम से ग्रामीण क्षे़़त्र मेे व्यापक अभियान चलाकर जनजारूकता लायी जाए। उन्होने जल संस्थान के अधिकारियों से कहा कि अपने-अपने क्षेत्रों मे शुद्ध जल की आपूर्ति सुनिश्चित करने के साथ ही जलापूर्ति वितरण केन्द्रों, टैकों आदि की सफाई करवाते हुए पानी में क्लोरीन आदि रसायनों का मिश्रण करते हुये पेयजल आपूर्ति मानकयुक्त किया जाना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा पेयजल लाईनों के क्षतिग्रस्त होने से दूषित पानी इन पाईपों से आपूर्ति होने का खतरा बना रहता है इसलिए क्षतिग्रस्त पेयजल लाइनों को शीघ्र ठीक करवाना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी ने जनपद वासियों से अपील की है कि गमलों के पानी को हर हफ्ते बदलते रहें।डेंगू के रोगिंयों के लिए मच्छरदानी का उपयोग आवश्यक करें ताकि उन्हे मच्छर के काटने एवं बीमारी के फैलाने से बचाया जा सके। घरों के आसपास पूर्ण साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करें। कचरे को अपने आवास से सुनिश्चित स्थान पर फेंके। घरों के कूलर, टेंक, ड्रम, बाल्टी आदि से पानी खाली करें।

RELATED ARTICLES

ताजा खबरें