Wednesday, February 8, 2023
spot_img
Homeउत्तराखंडनैनीताल शहर में वर्षों से चली आ रही सीवरेज समस्या से जल्द...

नैनीताल शहर में वर्षों से चली आ रही सीवरेज समस्या से जल्द मिलेगा निजात, कार्यदायी संस्था ने सर्वे किया पूरा

नैनीताल शहर को वर्षों से चली आ रही सीवरेज की समस्या से जल्द निजात मिलेगी। इस हेतु कार्यदायी संस्था तिरूपति द्वारा सर्वे का कार्य पूर्ण कर लिया गया है।
• कार्यदायी संस्था द्वारा फरवरी 2023 से सीवरेज की लाईन बिछाये जाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया जायेगा।
जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल की अध्यक्षता में एडीबी वित्त पोषित नैनीताल नगरीय सीवरेज परियोजना जिला स्तरीय अनुश्रवण एवं परामर्श समिति की बैठक सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी ने बैठक लेते हुए कहा कि नैनीताल उत्तराखण्ड का प्रमुख पर्यटन शहर है, जहाँ निकासी व सीवरेज की प्रमुख समस्या है। वर्तमान में नैनीताल शहर के समस्त क्षेत्र सीवरेज से नहीं जुड़े है, इस डीपीआर के माध्यम से शहर के सीवरेज व सेप्टिक टैंक की व्यवस्था को सुदृढ़ किया जाएगा जिससे सीवरेज का शुद्धिकरण एसटीपी टैंक का माध्यम से हो सकेगा। उन्होंने कहा कि शहरवासियों को सभी बेहतर व बुनियादी सुविधायें मिल सके, यह अर्बन अवसंरचना डेवलपमेंट का उद्देश्य है।
कार्यदायी संस्था तिरूपति के प्रोजेक्ट मैनेजर द्वारा बताया गया कि प्रथम चरण में माल रोड पंत पार्क से तल्लीताल तक सीवरेज पाईप जर्मन तकनीक के माध्यम से डाली जायेगी तथा कैपिटल सिनेमा के पास अतिरिक्त सीवर का स्टोरेज कर सीवरेज को तल्लीताल पाईप से लिंक किया जायेगा। उन्होंने बताया द्वितीय चरण में तल्लीताल से हनुमानगढी तक 800 एमएम पाईप लाइन बिछाई जायेगी जिसकी लम्बाई कुल 1900 मीटर है तथा सीवर के अतिरिक्त स्टोरेज हनुमानगढी के पास बनाया जायेगा जिसे रूसीबाई पास सीवरजे को लाईन द्वारा डाइवर्ट किया जायेगा तथा रूसी बाईपास पर सीवरेज का ट्रीटमेंट प्लान्ट बनाया जायेगा।
अनुश्रवण समिति के द्वारा बताया गया कि सीवरेज लाईन का कार्य रात्रि 8 बजे से प्रातः 6 बजे तक किया जायेगा जिससे आम आवागमन को कोई परेशानी ना हो। अनुश्रवण समिति द्वारा कार्यदायी संस्था को सडक कटिंग हेतु अनुग्रहित किया गया। एडीबी वित्त पोषित नैनीताल नगरीय सीवरेज परियोजना की कुल लागत 63 करोड है जिसे मई 2025 तक पूर्ण कर लिया जायेगा तथा कार्यदायी संस्था द्वारा सीवरेज लाईन का रखरखाव पांच वर्ष तक किया जायेगा।
अनुश्रवण समिति के अध्यक्ष जिलाधिकारी धीराज गर्ब्याल ने बताया कि कार्य की गुणवत्ता एवं समयबद्धता का विशेष ध्यान दिया जाए तथा आम जनमानस को आवागमन हेतु कोई परेशानी ना हो इसका ध्यान रखा जाए।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा. संदीप तिवारी, अपर जिलाधिकारी शिवचरण द्विवेदी, अशोक जोशी, सचिव प्राधिकरण पंकज उपाध्याय, उपजिलाधिकारी राहुल साह, अधिशासी अभियंता जल संस्थान विपिन चन्द्र, एई अनिल परिहार के साथ ही कार्यदायी संस्था के अधिकारी उपस्थित थे।

RELATED ARTICLES

ताजा खबरें