Thursday, February 9, 2023
spot_img
Homeउत्तराखंडनैनीताल : हाईकोर्ट को अन्यत्र स्थानंतरित करने को लेकर अधिवक्ताओं समेत तमाम...

नैनीताल : हाईकोर्ट को अन्यत्र स्थानंतरित करने को लेकर अधिवक्ताओं समेत तमाम संगठनों ने एकजुट होकर निकाली रैली

नैनीताल। उत्तराखंड उच्च न्यायालय को नैनीताल से अन्यत्र स्थानांतरित न किए जाने को लेकर मंगलवार को उत्तराखंड पर्वतीय राज्य संगठन के बैनर तले अधिवक्ताओं, व्यापार मंडल , स्थानीय लोगो समेत शहर के तमाम संगठनों द्वारा एकजुट होकर श्री राम सेवक सभा मल्लीताल से तल्लीताल गांधी पार्क तक एक समर्थन रैली निकाली गई।
इस दौरान रैली में पर्वतीय क्षेत्रों से लगातार संस्थानों को तराई में स्थानांतरित करने के विरोध में जमकर नारेबाजी की।
मालूम हो की उत्तरप्रदेश से पृथक राज्य उत्तराखंड की स्थापना पर्वतीय क्षेत्रों के बेहतर विकास के लिए की गई थी। लेकिन उत्तराखंड राज्य गठन के बाद से ही पर्वतीय क्षेत्रों के विकास के बदले लगातार पहाड़ में स्थित कार्यालयों को तराई भाबर में स्थानांतरित किया जा रहा है। वहीं अब राज्य गठन के बाद से ही नैनीताल में स्थापित उत्तराखंड उच्च न्यायालय को भी पहाड़ से तराई में ले जाने की तैयारी चल रही है। जिसको पहाड़ विरोधी मानसिकता बताते हुए इस फैसले का विरोध शुरु हो गया हैं।
अधिवक्ता महेंद्र पाल ने बताया उत्तराखंड की जनता लगातार पलायन को लेकर विरोध कर रही है और आगे भी करती रहेगी। कहां की सरकार पहाड़ी क्षेत्रों से बड़े-बड़े कार्यालय हाई कोर्ट,अदालत आदि को मैदानी क्षेत्रों में स्थानांतरित कर रही है। जिसको लेकर पहाड़ी क्षेत्रों से पलायन कई गुना बढ़ रहा है। जिसका पर्वतीय क्षेत्र की जनता पुरजोर विरोध करेगी।
साथ ही कहा की सरकार को आम जनता को लेकर भी एक उचित कदम उठाना चाहिए। कहा की उत्तराखंड राज्य को बने हुए 20 साल से अधिक हो चुके हैं, लेकिन अब तक पहाड़ी क्षेत्रों में विकास की दर धीमी गति से चल रही है। कहा की पहाड़ी क्षेत्रों में बढ़ रही बेरोजगारी के चलते युवा लगातार रोजगार के लिए पलायन कर रहे है , जिसको लेकर सरकार को भी एक उच्च स्तरीय विकास योजना बनाने की जरूरत हैं।
वहीं अधिवक्ता नितिन कार्की ने कहा कि उत्तराखंड राज्य की स्थापना जिस अवधारणा को लेकर की गई थी वो आज धरातल पर कहीं दिखाई नही देती। राज्य के पहाड़ी इलाकों से लगातार सरकारी संस्थानों और कार्यालयों को तराई के शिफ्ट किया जा रहा है जो कि पहाड़ी राज्य की अवधारणा के खिलाफ है।

प्रदर्शन में हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष नदीम मून, अधिवक्ता,नितिन कार्की ,बार एसोसिएशन के कई सदस्य,मोहन पाल, मोहम्मद खुर्शीद, मनोज जगाती,टूशी साह,मोहित पंत,मारुति नँदन साह,गजाला कमाल, सपना बिष्ट,कुंदन बिष्ट,तुषार गोस्वामी, भास्कर, विवेक वर्मा,मंटू जोशी,कमलेश बिष्ट, सरिता बिष्ट, मुन्नी आर्य , जया आर्य, मुन्नी तिवारी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

ताजा खबरें