Wednesday, February 1, 2023
spot_img
Homeउत्तराखंडरामगढ़ : धूमधाम से मनाया गया नोबेल पुरस्कार से सम्मानित गुरुदेव रविन्द्र...

रामगढ़ : धूमधाम से मनाया गया नोबेल पुरस्कार से सम्मानित गुरुदेव रविन्द्र नाथ टैगोर का 161 वां जन्मोत्सव , सीएम धामी जन्मोत्सव में हुए शरीक

रामगढ़/ नैनीताल। प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का जनपद नैनीताल के भीमताल विधानसभा क्षेत्र रामगढ़ मे निर्धारित समयानुसार रा.इ.का. मल्ला रामगढ़ मैदान नैनीताल पहुंचे। जहां पर छात्र-छात्राओं , पार्टी कार्यकर्ताओं व स्थानीय लोगों ने मुख्यमंत्री का फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया।जिसके बाद मुख्यमंत्री कार्यक्रम स्थल मे शान्ति निकेतन ट्रस्ट फॉर हिमालया के तत्वाधान में आयोजित हो रहे ’ भारतीय संस्कृति के सर्वश्रेष्ठ रूप, साहित्य के उज्जवल नक्षत्र दार्शनिक, समाज सुधारक एवं नोबेल पुरस्कार से सम्मानित गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर की 161 वां जयंती के शुभ अवसर पर आयोजित रविंदर जन्मोत्सव-2022 मे पत्नी गीता धामी के साथ बतौर मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम का दीप प्रज्वलित करते हुए शुभारंभ किया। इस अवसर पर राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामगढ़ की छात्राओ द्वारा सरस्वती वंदना के गीतों के साथ माननीय मुख्यमंत्री का भव्य स्वागत किया। कार्यक्रम के दौरान संयोजक प्रो. अतुल जोशी, क्षेत्रीय विधायक राम सिंह कैड़ा, पूर्व विदेश सचिव शशांक, देवेंद्र ढेला देवेंद्र बिष्ट, भाजपा के मंडल अध्यक्ष कुंदन चिलवाल आदि जनप्रतिनिधि द्वारा मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया।

सीएम धामी ने गुरुदेव रवीन्द्र नाथ टैगोर की 161 वां जन्मोत्सव दिवस पर उत्तराखंड वासियों को बधाई दी व रामगढ़ विश्व भारती केंद्रीय विश्वाविद्यालय के प्रथम परिसर का भी भूमि पूजन किया । उन्होंने कहा यह भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से उत्तराखंड को विश्वविद्यालय अनुपम सौगात मिली है,उनकी सरकार विकल्प रहित संकल्प के मंत्र पर अग्रसर है एवं राज्य की आवाम कल्याण को समर्पित है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सरकार जनकल्याण की भावना के अनुरूप लगातार प्रदेश का चहुमुखी विकास कर रही है। उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री का राज्य के प्रति गहरा लगाव है। सीएम धामी ने कहा की उनकी सरकार सबका साथ एवं सबका विकास के तहत कार्य करने के लिए दृढ़ संकल्पित है , उन्होंने कहा कि रामगढ़ क्षेत्र के टैगोर टॉप स्थित गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की कर्म स्थली जहां उन्होंने 19वीं शताब्दी में 5 बार यहां प्रस्थान कर अपनी चर्चित कविता संग्रह शिशु सहित गीतांजलि के कुछ भागों की रचना की। जिसके लिए उन्हें 1913 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार मिला जो किसी एशियाई को पहला नोबेल पुरस्कार था। उन्होंने कहा कि विश्व भारतीय केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलाधिपति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रामगढ़ में रवींद्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के परिसर की स्थापना में अपनी रुचि व्यक्त की है वह उत्तराखंड के लिए गर्व की बात है। वही कहा कि इस सौगात से जहां विश्व भारती केंद्रीय विश्वविद्यालय उत्तराखंड को भारत के प्रमुख शिक्षा केन्द्र के रूप में स्थापित होने का अवसर प्राप्त होगा । वहीं स्थानीय युवाओं के लिए स्वरोजगार के नये अवसर उपलब्ध होंगे, तथा यह राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटकों एवं शोधार्थियों के लिए भी नया गंतव्य बनेगा। उन्होंने कहा इसके लिए केंद्रीय राज्य मंत्री पर्यटन मंत्री एवं सांसद अजय भट्ट, केंद्रीय राज्य म पूर्व केन्द्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के प्रयासों की अथक परिणाम है कि उनके अकादमिक और साहित्यिक पृष्ठभूमि तथा मार्गदर्शन में ही विश्व भारती ने अपने प्रथम परिसर सराहना प्रयासों का की स्थापना के लिए गुरुदेव की कर्मभूमि रामगढ़ नैनीताल , जहाँ उन्होंने अपने काव्यांजलि ग्रंथ गीतांजली की रचना की का चयन कर उत्तराखंड को देश के शिक्षा जगत का महत्वपूर्ण केंद्र बनाने का निर्णय लिया।

इस दौरान जिलाधिकारी धीराज सिह गर्ब्याल ,वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, अपर जिलाधिकारी अशोक जोशी, परियोजना निर्देश अजय सिह ,अब्ज प्रसाद बाजपेई महाप्रबंधक केएमवीएन ,एसडीएम धारी योगेश मेहरा, ब्लाक प्रमुख धारी आशा रानी, कुंवर सिंह नेगी, डॉ अनिल कपूर डब्बू, डा दुर्गेश पंत, दया पोखरिया, रविंद्र , प्रधान रेखा जोशी, समेत विभिन्न विभागीय अधिकारी, पार्टी कार्यकर्ता, की भारी जन समूह उपस्थित रहा।

RELATED ARTICLES

ताजा खबरें