उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग सात भर्ती परीक्षाओ के परिणाम तीन माह के अंदर करेगा घोषित

ख़बर शेयर करें :-

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग सात भर्ती परीक्षाओं के परिणाम तीन माह के अंदर घोषित कर देगा। सबसे पहले आयोग सहायक अध्यापक (एलटी) की अंतिम चयन सूची जारी करेगा। आयोग ने कहा कि उसे एलटी के 13 विषयों के 1431 पदों पर अभ्यर्थियों के सत्यापन, परीक्षण व डोजीयर तैयार करने की प्रक्रिया को पूरा करने में वक्त लगेगा। यह प्रक्रिया फरवरी के मध्य में पूरी हो पाएगी।

 

 

आयोग के सचिव सुरेंद्र सिंह रावत ने अभ्यर्थियों को आगाह किया है कि वे कार्यालय में आकर अनावश्यक भीड़ न लगाएं और गलत तरीके से बैठकर आवागमन को बाधित न करें। ऐसा करने पर इसे अनुशासनहीनता एवं आयोग पर अनावश्यक दबाव बनाने की कार्रवाई माना जाएगा। ऐसी गतिविधि से अभ्यर्थियों की उम्मीदवारी निरस्त भी की जा सकती है।

बता दें कि अपने परिणाम के बारे में जानकारी लेने के लिए अभ्यर्थी आयोग के दफ्तर में आए दिन चक्कर काट रहे हैं। उन्होंने कहा कि आयोग के सचिव, परीक्षा नियंत्रक अध्यक्ष बदले गए। इन विपरीत हालात में परीक्षा संबंध कार्यों को आगे बढ़ाये जाने में कठिनाई आना स्वाभाविक है। दिसंबर में सभी लंबित आठ भर्ती परीक्षाओं पर स्थिति साफ करते हुए इनकी चयन की कार्रवाई शुरू की गई है।

सचिव ने कहा कि परीक्षा परिणाम तैयार करने की प्रक्रिया करने वाले कर्मचारी नए हैं। इस कारण डाटा परीक्षण एवं प्रक्रिया में कठिनाई आ रही है और समय लग रहा है। इस कारण परीक्षा प्रक्रियाओं की तय तिथि संभव नहीं है। चूंकि जरा गलती या त्रुटि होने से विधिक विवाद की स्थिति पैदा हो सकती है, इसलिए इसमें जल्दबाजी करना उचित नहीं है। यह आयोग व अभ्यर्थियों के हित में नहीं होगा।

वही पुलिस रैंकर्स का परिणाम फरवरी के तीसरे सप्ताह में आ जाएगा
आशुलिपिक /वैयक्तिक सहायक भर्ती परीक्षा के चयन की प्रक्रिया भी फरवरी के तीसरे हफ्ते में पूरी होगी
कनिष्ठ सहायक भर्ती परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों का परिणाम मार्च महीने के दूसरे सप्ताह में आएगा। इसके अंतर्गत पूर्व में कराई गई कंप्यूटर टंकण परीक्षा में आ रही कमियों का निपटारा करने के लिए डाटा परीक्षण कर सफल अभ्यर्थियों का परिणाम घोषित हो जाएगा।
अनुदेशक/ कर्मशाला अनुदेशक, 5. मत्स्य निरीक्षक, 6. मुख्य आरक्षी (दूर संचार पुलिस) व 7.वाहन चालक के पदों पर परिणाम अप्रैल में घोषित होगा।

Gunjan Mehra